RSS

Yeh kya Zindagi hai

14 May

यह क्या ज़िन्दगी है 

यह क्या ज़िन्दगी है, यह कैसा जहाँ है
जिधर देखिये ज़ुल्म की दास्ताँ है।
यह शेर १९६४ में फिल्म थी उस में एक गाने का है नामं याद नहीं लेकिन आज भी यह उतना ही हस्बे हल हैऔर अगर तारीख की ओर देखें तो लगता है हमेशा ही से यही सूरत हाल रही है। हाँ मगर स्थानीय तौर पर देखें तो यहाँ न्यू ज़ीलैण्ड में राम राज का सा समां लगता है कभी कभी। इतना सुकून और अमन है, ऐसी साफ सफाई है काम यूं हो जाते है, गाड़ी चोरी हो जाये तो फून पर इन्सुरांस पैसे अकाउंट में दाल दे वगैरा। एक बार पिछले साल हमारी कमीज़ और पतलून गिर गए । यह दोनों चीज़ें हम पहने हुए थे । साथ में सर जोर से दरवाज़े के शीशे पर लगा वोह चकनाचूर हो गया (शीशा , सर नहीं) और इसी लिए सर में गुमडा भी नहीं पड़ा बस ज़रा कान के पास शीशा चुभ गया । इन्शोरांस ने फ़ोन पर ही आदमी भेज कर इतना महंगा शीश बदलवा दिया
ज्यादा तर काम phone पर hi हो जाते हें , के जी घबराने लगता है। हम जो तीसरी चौथी दुनिया वाले हैं इस के आदी नहीं है । यकायक जी चाहता है भाग कर वहीँ चले जाएँ जहाँ परेशानियाँ हैं और धोके हैं और क़दम क़दम पर लुटने के सामन हें । हमारे एक दोस्त कराची में कई हफ़्तों तक सिविक सेण्टर अपने एक जाइज़ काम के लिए खुआर हो ते रहे काम नहीं हुआ आखिर क्लर्क ने पूछा तुम क्या करते हो । कहा अध्यापक हूँ । वोह बोला पहले बताना चाहिय था यहाँ अद्यापकों और बेवाओं से कुछ नहीं लिया जाता। उनका काम हो गया।(यह सच्चा वाक्या है , उन का नाम रहमान है)
हिंदुस्तान और पाकिस्तान को अगर इन की तरह बनना है तो दो बातें करनी हों गी। आबादी पर कंटरोल और education . तीसरी बात यह के वेस्ट से पंगा मत लो। वोह जो कहते है इफ यू कांट विन them ज्वाइन them । कुछ यह कहें गे की ग़ुलामी से बेहतर है के आदमी मर जाय और कौमों को अपनी पहचान और अपनी सभ्यता के अनुस्सर जीना चाहिए । ठीक है तो मरो। चानकिया के अनुसार झुकना अच्छा है के उस में समय
गुजरने के बाद हालात पलटा खा सकते हें ।
लेकिन वेस्ट में सब अच्छा है ऐसा भी नहीं है। बाहर से सब टीप टाप है अन्दर देखो तो ज़ादा तर लोग बचैनी का शिकार हें। मार्केट इकोनोमी ने सब को , अधिकतर लोगों को, क़र्ज़ के जाल में फंसा कर रखा हुआ है। अंदरूनी सुकून जो हमें वहां सूखी रोटी और चटनी के साथ मिलता है वह यहाँ बहुत मुश्किल है यह एक डिलेमा है ।

क्या ख्याल है?
शकील अख्तर
Advertisements
 
2 Comments

Posted by on May 14, 2011 in adab and literature

 

2 responses to “Yeh kya Zindagi hai

  1. salim598786

    May 15, 2011 at 4:50 pm

    Hamaare yahan ka falsafa zara alag hai. Kaha hai na kisi shair ne –
    Chala jaata hoon hansta khelta mauj-e-hawadis se
    Agar Aasaania.n ho.n zindagi dushwar ho jaaye.

    Ek aur bhi kisi ka ek misra hai. Poora sher yaad nahi.n

    Mushkile.n itni pari.n mujh par ke aasa.n ho gayee.n

    To bhai hum ko to inhi.n mushkilo.n me.n rahne ki aadat ho gayee hai. Waise bhi kaha jaata hai ke jo cheez aasaani se haasil ho jaaye us ki koi qadar nahi.n hoti. To bhaai yaha.n koi wzifa milna ho, koi compensation milna ho, zaifi ki pension milna ho bas yeh samajh leejiye ke joo-e-sheer laana hai. Aur dasion chakkar lagaane ke baad jab woh qaleel si raqam haath mein aati hai to paane wala apne aap ko ek azeem fateh ke taur par dekhta aur mahsoos karta hai. waise mia.n har buraai mein bhi kuch na kuch achchai chupi rehti hai.
    Ek tanzia joke kahin parha tha kuch is tarah tha. Ek Russian atheist, India ghoomne aaya jab wapas hua to he became a profound believer. Wajah poochne par us ne jawaab diya ke mein ne hindustaan mein yeh dekha ke us ka har shahri mulk ki buniaad tak khokhli karne mein laga hua hai magar phir bhi yeh mulk abhi tak khtam nahi.n hua jo ke is baat ka suboot hai ke koi na koi super natural power ya God maujood hai jo is mulk ko tabaah hone se bachaaye huey hai.
    To mia.n dekha aap ne agar hum hindostaani bhi doosre bahut se mulko.n ke logo.n ki tarah mulk ke wafadaar hote to us Russian ko yeh Imaan ki daulat kaise naseeb hoti. Khair mia.n mere mafhoom ko kisi had tak Iqbal ka yeh sher adaa krta mahsoos hota hai

    Parwaaz hai dono ki isi ek fizaan mein
    Karghaz(vulture) ka jahan aur hai, Shaheen(falcon) ka jahaan aur

     
  2. shakilakhtar

    May 18, 2011 at 9:31 am

    wah wah khoob likha hai. aasaniyan hi aasaniyan hon to zindagi ka kya maza.
    Sheikh sahab ho tumhein mubarak, hai mere kis kaam ki
    aisi jannat jsmein bas aaraam hi aaraam ho.

     

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: