RSS

meena kumari ki nazm

29 Mar

 

DIL SA SAATHI

Tukre tukre din beeta dhajji dhajji raat mili

Jiska jitna aaNchal tha Utni hi saughaat mili

 

Jab bhi chaha dil ko samjheiN hasne ki aawaz suni

Jaise koyee kahta ho, le phir tujh ko maat mili

 

MaateiN kaisi ghaateiN kya, chalte rahna aath paher

Dil sa saathi jab paya, bey chaini bhi saath mili

Yeh nazm maiN ne 1960 mein radio par Meena kumari ki apni awaz mein suni thi. ab tak aise yaad hai ke kal suni thi. Mujhe bahot pasand hai. Aap ko bhi achhi lage gi.

 

 

Advertisements
 
2 Comments

Posted by on March 29, 2011 in Urdu Poetry

 

2 responses to “meena kumari ki nazm

  1. Vijay Kumar Gupta

    November 13, 2015 at 4:52 pm

    मीना कुमारी की यह नज़्म रूपी ग़ज़ल मैंने “पोलिडोर” के रेकॉर्ड में सुनी थी। वो रेकॉर्ड अभी भी मेरे पास है गो उसको सुनने वाला यंत्र खो गया। मगर उस रेकॉर्ड में वो यादें हैं जिनमें खो जाना एक ऐसा हसीन हादसा है जिसे मैं कभी-कभी
    अभी भी दुहरा लेता हूँ।
    शा’इरी की बात करें, मीना जी की शा’इरी में बहुत दर्द था। उनका शे’र मुलाहिज़ा हो:
    आयादत होती जाती है, इबादत होती जाती है
    मेरे मरने की देखो सब को आदत होती जाती है
    उनको मरे अब ज़माना हो गया। क्या आपको उनके मरने की “आदत” हुई?
    विजय

     
    • shakilakhtar

      November 14, 2015 at 10:55 am

      ग़ज़ल उस ने छेड़ी मुझे साज़ देना, ज़रा उम्रे रफ़्ता को आवज़ देना
      हम उम्र के उस हिस्से में हैं कि आन की आन में लौट पीछे की तरफ जाते हैं. मीना कुमारी हमारी पसन्ददीदाः शायरा हैं और हां उनके यहां हक़ीक़ी दर्द मिलता है.

       

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: